pic
personality development

“झोला छाप डाक्टरों से सावधान !”

आजकल हमारे भारतीय समाज में एक विशेष फैशन चलन में है और वो है धार्मिक आधार पर व्यक्तियों के मस्तिष्क का EMI !करना जब से BJPसरकार क्या आयी ?मानो झोला छाप डॉक्टरों की बाढ़ सी आगयी है !ये लोगों के मस्तिष्क का ऍम. आर .आई आखों से कर लेते हैं और रोगी की तकलीफ को बिना कहे ही समझ लेते हैं !महाज्ञानी जो ठहरे !महाज्ञान के इस कुम्भ में हर कोई डुबकी लगा लेना चाहता है !एक ऐसी अधार्मिक डुबकी जो धर्म (सत्य )को धो दे !

जी हाँ मैं बात कर रही थी अखंड भारत का झूठा दम्भ भरने वाले राष्ट्रवादियों की !आज संकुचित एवं रोगी मानसिकता के साथ राष्ट्रवाद किस दिशा में जा रहा है जिसे देखो वही राष्ट्र का ठेकेदार बना हुआ है वास्तव में आजकल राष्ट्रवाद राष्ट्र हित से कम और निजी स्वार्थों से अधिक संचालित हो रहा है !

जब कांग्रेस की बात आती है तो राष्ट्रवाद बनाम वंशवाद में लड़ाई छिड़ जाती है , कभी राष्ट्रवाद बनाम जातिवाद का ,कभी राष्ट्रद्रोह बनाम राष्ट्रवाद ,कभी जय हिन्द बनाम राष्ट्रवाद , कभी जय मोदी बनाम राष्ट्रवाद कभी वन्देमातरम बनाम राष्ट्रवाद …………….? राष्ट्र वाद का इतना संकुचित द्रष्टिकोड आपलोगों ने पहले कभी नहीं देखा होगा जहां व्यक्ति को प्रत्येक क्षण अपने राष्ट्रवादी होने का प्रमाण देना पड़े वो भी ऐसे लोगों को जिनके लिए राष्ट्रवाद एक निजी संपत्ति हो गया हो अब अगर आप स्वयं को राष्ट्रवादी घोषित करना चाहते हैं तो इनसे प्रमाणपत्र लेना अनिवार्य होगा मानो राजनीती न हुई दलगत आतंकवाद हो गया !

समय रहते निकाल फेकिये संकुचित दृष्टिकोण को

हमारे संविधान की आत्मा से धर्मनिरपेक्ष व लोकतंत्र मानो समाप्त होने की कगार पर है और ये सब कुछ टूच -पुँजिये कम अक़्ल , कम पढ़े लिखे अथवा पढ़े लिखे जाहिलों का काम है !इन सिद्धांतों का मूल्य वह बुद्धिजीवी वर्ग जानता है जिसने इतिहास पढ़ा है स्वतंत्रता संग्राम और देश की आज़ादी के लिए जान गवाने वाले सपूतों की माओं-बहनो -बेटियों के दुःख दर्द को महसूस किया है !

यदि राष्ट्रवाद का बिगुल छेड़ना ही है तो धार्मिक सौहार्द के लिए छेड़िये ,विकास के लिए छेड़िये ,समाजवाद के लिए छेड़िये ,आतंकवाद के लिए छेड़िये अंतर्राष्ट्रीय लेवल पर साख बनाने के लिए छेड़िये ,भ्रष्टाचार के विरुद्ध छेड़िये , लोकतंत्र की बहाली के लिए छेड़िये , धर्म निरपेक्षता के लिए छोड़िये …………………..!

flag
Pic by pixabay

यह एक तथ्य आधारित सत्य है आप जिसपर जितना अविश्वास प्रकट करेंगे वह व्यक्ति उतना ही विद्रोही प्रवृत्ति धारण करता जायेगा !क्या हम भारतियों के प्रति अंग्रेज़ों के अविश्वास को भूल गए !याद रखिये अविश्वास की स्तिथि भ्रम उत्पन्न करती है और भ्रम ले डूबता है इस भ्रम से उत्पन्न तूफ़ान में सब घिर जाते हैं फिर चाहे वह वास्तु हो व्यक्ति अथवा सरकार !

सरकार शब्द में एक मत्वपूर्ण संकल्प निहित है !ये संकल्प है संविधान की आत्मा के स्वरुप को ज्यों का त्यों बनाये रखने का क्यूंकि लोकतंत्र का अर्थ जनता का जनता के द्वारा जनता के लिए किया जाने वाला शासन है न की” सरकार का सरकार के द्वारा सरकार के लिए किया जाने वाला शासन !”मूल ही वास्तविक सुगन्धयुक्त फूल है आत्मा में बदलाव शूल है !

में स्वयं पर कोई धार्मिक अथवा जातिगत बन्धन आरोपित करके एक व्यक्ति से भिन्न कुछ भी मानन्ना नहीं चाहती !मैं एक सामान्य व्यक्ति हूँ भारत की एक आम नागरिक ! याद रखिये हम सभी भारत के नागरिक है हमारी एकता में ही भारत की शक्ति है और हमारी शक्ति का प्रतीक है अखंड भारत !

हमारा देश संवेदनशील स्थिति से गुज़र रहा है एकता बनाये रखिये अगले ब्लॉग में फिर मुलाक़ात होगी तब तक के लिए हँसते रहिये -हसाते रहिये जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिये !

जय भारत

🙏🙏🙏

Advertisements
pixabay
life, motivation, personality development, safalta ke mool mantra, solution of a problem

” प्रतिबद्धता जीवन का आधार !”

कुछ रिश्तों सा कुछ नातों सा !

रिश्ता हर एक हे बातों सा

कुछ बह निकले पानी बनकर

कुछ जाये ठहर दर्द के जैसा !!

संबंधों की विश्वसनीयता पर प्रश्न चिन्ह

संबंधों की प्रतिबद्धता का होता समापन ! संबंधों की विश्वसनीयता पर प्रश्न चिन्ह लगाता है !वास्तव में सम्बन्ध हैं क्या ?यही एक प्रश्न जिसे देखो उसी के लिए चिंता का विषय बना हुआ है !आजके दौर में संबंधों ने जिस तेज़ी से अपने वास्तविक अर्थ को खोया है ,ज़रूरते जिस तेज़ी से संबंधों पर भारी पढ़ गयीं पता ही नहीं चला !

मन व मस्तिष्क का का भ्रम जाल

विकास ,प्रगति ,स्टेटस की झूठी व्याख्या और झूठा दम्भ वास्तव में मन व मस्तिष्क के झूठे भ्रम का ही परिणाम है !ये भ्रम व्यक्ति को एक ऐसी माया नगरी में ले जाता है जहां भटकाव और असंतुष्टि के अतिरिक्त कुछ नहीं होता और व्यक्ति एक लम्बी उम्र गुज़ार कर सालों की तिलांजलि देकर दशकों के बाद माया के उस भ्रम से निकल आता है !पर वो कहते हैं न ” अब पछतावे होत क्या जब चिड़ियाँ चुग गयीं खेत !”

pixabay
http://www.pixabay.com

प्रतिबद्धता की आंच संबंधों के शुद्धिकारन के लिए आवश्यक

संबंधों को विश्वास की कसौटी पर कसा जाता है जहां प्रतिबद्धता की आंच इन्हें शुद्ध बनाती है !प्रतिबद्धता अर्थात वादा !एक ऐसा वादा जो व्यक्ति स्वयं -स्वयं से करता हे !व्यक्ति का यही वादा उसकी इच्छा ,उसकी आकांक्षा ,उसका संकल्प बन जाती है !जो व्यक्ति के जीवन को एक दिशा प्रदान करती है !

प्रतिबद्धता जीवन के हर दौर में ज़रूरी है

विश्वास की एक डोर जो एक इस छोर तो दूसरी उस छोर संबंधों को बांधे रखती है !प्रतिबद्धता कोई पखवाड़ा नहीं हे जिसकी आवश्यकता एक समय विशेष पर विशेष रूप से हो यह तो जीवन के प्रत्येक क्षण में ज़रूरी है !जीवन के हर दौर में ज़रूरी है !

प्रतिबद्धता में कमी के परिणाम

प्रतिबद्धता की कमी रिश्तो में अविश्वास पैदा करती है जो भविष्य में खटास का कारन बनती है !अविश्वास संबंधों का एक ऐसा प्रतिबिम्ब प्रदर्शित करता है जो वास्तव में होता ही नहीं है , एक ऐसी सोच को जन्म देता है जो सोच का विषय ही नहीं है , एक ऐसे घाव का अनुभव करता है जो चोट है ही नहीं !

pixabay
Pic by pixabay.com

जीवन नीरस ,निराशापूर्ण व असंतुष्ट मन ,चिन्तनमयी मस्तिष्क जीवन को डावाडोल बना देता है सुख का लोप व संतुष्टि का अंत हो जाता है !सोच विचार की शक्ति क्षीड़ हो जाती है !द्वन्द में उलझा व्यक्ति न घर का रहता है न घाट का सम्बन्धो की डोलती नैया जीवन के सुख चैन को ले डूबती है और हिस्से आता है संताप और घृणा कभी लोगो से तो कभी अपने आपसे !

सम्बन्धो में विश्वास उत्पन्न कीजिये संबंधों का आनंद लीजिये अगले ब्लॉग में फिर मुलाक़ात होगी तब तक हाँहते रहिये हसते रहिये जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिये !

धन्यवाद !

🙏🙏🙏

life, motivation, shayree

“आज से बेहतर कल होगा !”

shayree
“आज से बेहतत कल होगा “

  • Aaj se behtar kal hoga !
  • Sundar har ek pal hoga !!
  • Tum jo agar umeed na haro !
  • Aage badho kal ko sawaro !!
  • kuch guzre kal se seekho !
  • Murjhaye har pal ko seencho !!
  • Aaj lagaya ped hai jo !
  • Kal wo hara hoga !!

Aa

Award

“Liebster Award “

Thanks to my loveliest friend and wonderful writer Sunipukadiyil , “Fragrant flowers and recipies “for nominating me for the Liebster Award . I am both honored and humbled that you thought of me .if you haven’t checked out Sunipukadiyil’s blog , so what are you waiting for ? you can find Sunipukadiyil here https://fragrantflowersandrecipes.blog

please visit her blog and encourage her for getting loveliest fragrance and taste in future .

pic
Pixabay.com

Rules

1 things that bloggers who nominating you .

2 Share 11 facts about you .

3 answer the 11 Questions the blogger asked you .

4 Nominate 11 bloggers and make them happy.

5 make up to all 11 questions and ask them .

6 notify your 11 nominees .

Facts about me

1 I got a master’s degree in zoology specialization in fisheries .

2 I have done integrated diploma in travel and tourism management .

3 I have some knowledge of public administration and philosophy .

4 I value people on the basis of their qualities and not on the basis of their social and economic status .

5 I don’t believe in hurting anyone .

6 I am a very ground to earth person and like to stay away from the people people who believe to pump and show .

7 I am a perfectionist and try to bring perfection in every work .

8 I believe in honesty because honesty is the best policy .

9 I hate lies .I forgive those who admit their mistakes .

10 I exercise every day .

11 I am foodie .

Answer the Questions

1 do you fed up with your household duties ?

No , I’m not fed up with my household duties because I feel good to shoulder my duties .

2 Do you like lying ?

I don’t like lying Because it create misunderstanding as well as dissatisfaction .People do not believe the speaker and he becomes a laughingstock .

3 How do you feel when someone ill-treated ?

We are surrounded by the people who are ill treated by others ,no of people are doing so ,Every one is the victim of discrimination sometimes on the basis of religion, origin ,sex ,caste, sometimes on the basis of socio and economic status .I don’t like any kind of discrimination ,It is the violence of our fundamental rights ,Our Constitution as well as Nature provide the same rights .

4 Do you like back biting ?

No, I’m a clear-cut person if I have a problem with someone i tell the person clearly .

5 what do you think about the people who drive on the wrong side on the road ?

I don’t like people who driving wrong side on the road because their slight carelessness can kill people. These kind of people not only breaks the rules but also puts people’s lives in danger .

6 what do you think about any kind of pretend ?

I don’t like any kind of pretense because caring for someone is an internal issue sometimes because of pretending we become unable to recognize the real people who loves and care .

7 what do you think about the littering the environment ?

we should preserve our environment because it is important factor of healthy life .If we protect the environment today, tomorrow it will protect us and our future generations .

8 do you like that kind of people who pretend to hold all kinds of powers and they ill treated others ?

No, pretend and care both are the different things .Care entails a feeling of love and showing off can be helpless.Truth is from the heart ,Just as a lie suppresses the truth for some time, in the same way, showing off the truth for some time only .sometimes the person have the special experience They can guide but it could be in real sense because we all are equal the feeling of superiority is the kind of in equality .

9 This is totally against the humanity. When God has made everyone equal then any kind of discrimination with any person is unfair.

10 what do you think about procrastination ?

Disposal of work on time gives better results and after the passage of time, the thing loses its importance, therefore one should always follow this rule, call today, do it today, so now .

11 do you like to wake up early in the morning ?

If I have any work so I get up early in the morning otherwise I like to wake up late . I used to study at night, so it has been a habit to wake up late, whereas I know that waking up late is harmful to health.

questions for my nominees are

1 what is something that most people learn only after it’s too late ?

2 Do you also think that the false conceit of the superior is making us fall into the eyes of each other and weakening our image at the international level as well ?

3 Do you also believe in delay or believe that there is nothing called delay ?

4 the house is on fire ,but everyone is safely out ,the beds are safely out ,and all wallets and cash are saved .if you could make one last thing to get something what would it be ?

5 In the absence of human values, the imagination of human is itself a human inferiority ?

6 If you could ask advice from any historical figure who would it be why would you ask them and why ?

7 if you are tired somehow survived and grew up in the wildness without any human contact ,how ” human ” would they be without the influence of society and culture ?

8 If life is more important than love then why do people die in love while life is more than love ?

9 Do you think that in today’s time, one can give up their desires, whereas in today’s time, each person’s life is revolving around desires ?

10 Today, the person seems to be most concerned about himself, being worried for the next generation is just a show off, do you think it is right?

11 Do you also think that if victory is a priority then defeat is also important and why ?

My nominees are

1 Mr. Ravi singh

https://ravisingh.blog/

2 Mr. Shiva Narayan

https://learnography.wordpress.com

3 Mr. Obaid khan

https://map195.wordpress.com

4 Mr. Nilzeitung

https://nilzeitung.wordpress.com

5 prof. mitch

https://mitchgoldfarbblog.wordpress.com

6 Mr. Samyak singh

http://bloggo.art.blog

7 Mr. Madhu soodan

https://madhureo.com

8 Mabm

https://wp.me/p6xgJx-1ko

9 Raaj Soni

https://innocentarticles.wordpress.com

10 kumar parma

https://thehindimail.wordpress.com

11 Rock shayar Mr. Irfan

3

सोशल ईविल, humble ,kind and polite, life, Mental health and personality development, personality development, Society

“कहीं आपके आदर्श भी पाखंडो की बलि तो नहीं चढ़ गए !”

सिद्धांततः कहा जाता है की बड़ों का सम्मान किया जाना चाहिए ,हमारे कारण कभी किसी की भावनाएं आहत ना हो इसका सदैव ध्यान रखा जाना चाहिए ,झूठ नहीं बोलना चाहिए किसी को पीड़ा नहीं पहुचानी चाहिए , किसी के दुःख का कारण नहीं बनना चाहिए …………..और जाने क्या-क्या आदर्श निहित है हमारी संस्कृति में !

सामान्यतः आदर्शों और व्यवहार के मध्य एक बहुत बड़ा अंतर पाया जाता है !आज के समय में हमारे बहुमूल्य आदर्श एक गिफ्ट पैक से ज्यादा कुछ नहीं बचे हैं खूबसूरत, डब्बा बंद ,फॉरेन पैकिंग में पैक, आकर्षक जिसे देखते ही हर कोई खोलने को लालायित हो उठता है और खोलने पर वही ऑनलाइन पार्सल की तरह मंगाया कुछ पाया कुछ !क्या कभी सोचा है आपने हम अपनी आने वाली पीढ़ियों को आदर्श के नाम पर क्या देने वाले हैं ?जबकि पीढ़ी का यह अंतर हमारे आदर्शों पर भी स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में निरंतर गिरावट आ रही है !

वास्तव में हमारे आदर्शों में गिरावट का प्रमुख कारण है हमारे बड़ों के मूल्यों में गिरावट और सर्वाधिक उत्तरदायी है पाखंड या (ह्य्पोक्रिसी )है !जहां दोहरे माप दंड ,दोहरे मूल्य , कथनी और करनी में अंतर ,सामने और पीठ पीछे का अंतर ,दोहरी मानसिकता !

यह तो परिस्थिति वाद है इसे आदर्शों की श्रेणी में कैसे रखा जा सकता है !आदर्श स्थाई होते हैं विपरीत परिस्थितियों में भी उच्च आदर्श अपने स्थान से डिगते नहीं हैं “उच्च विचार साधारण रहन-सहन “कभी उच्च व्यक्तित्व के सार हुआ करते थे आज हाल यह है कि विचार उच्च हो या ना हो रहन सहन अवश्य उच्च होने चाहिए !

परिणाम स्वरूप दोहरे असंतुष्ट व्यक्तित्व की उत्पत्ति होती है इन दोहरे मापदंडों के मध्य संतुलन बैठते –बैठते व्यक्ति अपनी वास्तविक स्थिति ही खो देता है अब न तो वे वह बचता है जो वह था और जो वह है वास्तव में वह है ही नहीं !अब प्रश्न उठता उठता है की आखिर ये है कौन ?यह एक भटका हुआ प्राणी है जो अपना अस्तित्व तलाश रहा है अपनी वास्तविक पहचान को छोड़कर एक नई पहचान बना रहा है !

many facrs
“जो हैं वही रहिये !”

यह कैसा द्वंद है कैसा युद्ध ?अपने आप से !क्या अपने आप से लड़कर कोई कभी जीत सका है ?शायद जीत भी जाता यदि युद्ध सत्य का होता ! युद्ध और धर्म युद्ध में अंतर है यदि धर्म युद्ध हो तो व्यक्ति पराजित होकर भी संतुष्टी प्राप्त कर लेता है क्योंकि धर्म युद्ध सदैव सत्य के लिए होता है और सत्य के लिए कुछ खोना भी पाने से कम नहीं होता !

संस्कृति न हुई मजाक हो गया ,आदर्श न हुए खेल हो गया !आपकी सोच न हुई आपका विनाश हो गया जीवन न हुआ पाखंड हो गया !आपका व्यवहार न हुआ एक खेल हो गया

हमारी संस्कृति मूल्य व आदर्श हमारी विरासत हैं हमें हमारी इस बहुमूल्य धरोहर को सहेजना होगा दोहरे मूल्यों से बाहर आना होगा पाखंड से खुद को बचाना होगा ! यदि हमसे हमको इस पाखंड से बाहर निकालने में सफल होगे तभी तो अपनी आगामी पीढ़ी को असदारशों की भेट उपहार स्वरुप देने में सक्षम होंगे !

पाखंड से बचिए, सच से परिपूर्ण जीवन व्यतीत कीजिए ,जोहैं वही रहिये अगले ब्लॉग में फिर मुलाक़ात होगी तब तक हँसते रहिये – हसाते रहिये जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिए !

धन्यवाद !

🙏🙏🙏

..

सोशल ईविल, life, motivation, personality development, solution of a problem

“क्या होना चाहिए ?इच्छाओं व आवश्यकताओं को नमन अथवा दमन !”

इंसान कभी अपनी ज़रूरतों से जूझता है तो कभी अपनी ख्वाहिशों से एक को पूरा करने के चक्कर में दुसरे की अनदेखी जाने अनजाने हो ही जाती है , कभी एक का पलड़ा भारी तो कभी दुसरे का ! कभी ख्वाहिशों के आगे ज़रूरतें दम तोड़ देती हैं तो कभी ज़रूरतों के आगे ख्वाहिशों का गला घोंट दिया जाता है !”ख्वाहिशें -ज़रुरत ,ज़रुरते -ख्वाहिश “बस इन दोनों के मध्य संतुलन बैठने में ही ज़िंदगी बीत जाती है !

यूँ तो ज़िंदगी के कई क्षण अनमोल होते है जो विभिन्न रंगों से जीवन को रंगोली की तरह रंगीन बना देते है मगर फिर भी हम मनुष्य सदैव नकारात्मक क्षणों को इस तरह पकडे रहते हैं की जीवन से हर रंग का आनंद ही समाप्त हो जाता है !

ख्वाहिश अपनी जगह ज़रूरत अपनी जगह “ख्वाहिश दिल का जूनून तो ज़रूरत शरीर का सुकून है !”इस प्रकार अपनी -अपनी जगह दोनों ही महत्वपूर्ण हैं यदि दोनों को एक दुसरे का पूरक कहा जाये तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी !ख्वाहिश जीवन को आनंदमयी बनाती है जिससे जीवन में उत्साह जागृत होता है और व्यक्ति में जीवन के प्रति लालसा उत्पन्न होती है इसके विपरीत आवश्यकताओं का बोझ व्यक्ति के जीवन को दुखदायी बना देता है और इससे जीवन के प्रति अनुत्साह जागृत होता है और इससे व्यक्ति में जीवन के प्रति उदासीनता व अरुचि उत्पन्न हो जाती है !

एक सुखी संतुष्टिपूर्ण जीवन के लिए दोनों ही आवश्यक हैं दोनों ही भावनाओं का सम्मान कीजिये परन्तु साथ ही यह भी याद रखिये की गुलाम किसी के न बने !फिर चाहे वह ख्वाहिश हो या फिर ज़रुरत ख्वाहिश और ज़रुरत की आपसी जंग में एक समय विशेष पर जिसका पलड़ा भारी होता है वह जीत जाता है !

pic by http://www.pixabay.com

मन व मस्तिष्क की इस लड़ाई में जब मन मस्तिष्क पर हावी हो जाता है तो जीत सदैव ख़्वाहिश की ही होती है और जब मस्तिष्क मन पर हावी हो जाता है तो जीतn सदैव आवशयकता की होती है !मन की पूरी तो मस्तिष्क परेशान और मस्तिष्क की पूरी तो मन परेशान ! आखिर करे तो क्या करें इंसान ?

एक में संतुष्टि तो दुसरे में असंतुष्टि, एक में जूनून तो दुसरे में सुकून यूं तो दोनों का चोली दामन का साथ है परन्तु फिर भी संबंधों में संदेह अज्ञात है !दोनों के मध्य गतिरोध है और हो भी क्यों न वास्तव में ख्वाहिशों का ज़रुरत से बैर सव्भाविक ही है क्यूंकि ख्वाहिशों अक्सर ज़रूरतों के आगे दम तोड़ देती हैं या ये भी कहा जा सकता है की ज़रूरतें ख्वाहिशों पे भारी पढ़ जाती हैं इसके उलट ज़रूरतों का भी यही हाल है ज़रूरतें सपनी प्राथमिकता के आधार पर ख्वाहिशों को सीमित कर देती हैं !

ख्वाहिशें हों या ज़रूरतें दोनों ही आत्मा और शरीर की भांति मानव जीवन की प्राथमिक आवश्यकतायें है इन्हें कम ज़्यादा तो किया जा सकता है परन्तु साधु संत व महात्माओं की भांति पूर्णतः समाप्त नहीं किया जा सकता !ये हम जैसे साधारण मनुष्यों के बस की बात नहीं !

आज के आधुनिक युग में मनुष्यो में आवश्यकताओं और ख्वाहिशों के दमन की इच्छा भी नहीं के बराबर ही पायी जाती है जिसे देखो वही अपनी ख्वाहिशों और आवश्यकताओं के पीछे दौड़ रहा है सबंधों में संतुलन मानो समाप्त सा होता जा रहा है और यही कारण है कि एक संबंधो को निभाने के लिए दूसरे संबंध की अवहेलना कर दी जाती है आज व्यक्ति ख्वाहिशों और आवश्यकतों की बेड़ियों में जकड़ कर रह गया है जहां व्यक्ति से व्यक्ति का सम्बन्ध टूटता जा रहा है !ये सब क्यों और किसलिए ?यदि समस्या का हल ढूँढना है तो समस्या के कारणों की पहचान तो करनी ही होगी !

समस्या के कारणों की पहचान कर जीवन में संतुलन स्थापित कर आगे बढ़ते रहिये अगले ब्लॉग में फिर मुलाकात होगी तब तक के लिए हंसते रहिए- हंसाते रहिए जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिये !

धन्यवाद !

🙏🙏🙏

gyani
सोशल ईविल, humble ,kind and polite, life, Mental health and personality development, motivation, personality development, solution of a problem

“कहीं आपकी नज़र में भी केवल आप ही महाज्ञानी और बाक़ी सब अज्ञानी तो नहीं !”

अहम् एक मानसिक विकार

उचित -अनुचित का भी एक अजीब खेल है जिसे देखो बस वह सही और हर दूसरा व्यक्ति गलत है !ऐसा क्या है जो प्रत्येक व्यक्ति को केवल उसके सही होने के लिए विवश कर देता है ? और अन्य व्यक्ति के सत्य को बाधित कर देता है !वास्तदव में यह कुछ और नहीं व्यक्ति का संकुचित दृष्टिकोण मात्र है !जहां किसी अन्य के सत्य के लिए कोई स्थान नहीं है ” मैं ही सत्य ज्ञानी हूँ ,सत्य भी मैं बोलता हूं और केवल में ही हूं जो सत्य सुनना भी पसंद करता हूँ !”क्या आपने कभी सोचा है सत्य का यह दंभ क्यों और किस लिए ?

दोषपूर्ण दृष्टिकोण सत्य अथवा छदम

वास्तव में यह सच व झूठ की समस्या नहीं ये एक “मानसिक विकार ” है एक ऐसा मानसिक विकार जिसमे व्यक्ति स्वयं को सर्वोच्च, सर्वोपरि , सर्व्गुढ़ संपन्न मान लेता है और इसे इसकी बुद्धि और सर्वोपरिता के आगे सब तुच्छ नज़र आने लगते हैं !क्या कोई परिभाषा है सर्व्गुढ़ संपन्न होने की ? या केवल अपना दृष्टिकोण ही पर्याप्त है यदि व्यक्ति सोचता है की वह परम ज्ञानी ,परम अनुभवी ,सर्वगुण संपन्न …………………आदि है तो क्या वास्तव में ये सत्य है या छदम दम्भ मात्र ?

gyani
pic by pixabay.com

कहीं आप भी इनमे से एक तो नहीं

“वास्तव में तो ऐसे लोग बुद्धिमान नहीं अपितु बुद्धिमत्ता का चोला ओढ़े महामुर्ख होते हैं !”आप कौन होते हैं उचित- अनुचित का निर्णय करने वाले ?दूसरे की समझ का न समझी से आंकलन करने वाले !सामान्यतः व्यक्ति भिन्न परिस्थितियों में वास करते है इसलिए उचित अनुचित की परिभाषा भी भिन्न -भिन्न व्यक्तियों के लिए भिन्न -भिन्न होती है यदि सर्व सामान्य सत्यों को छोड़ दिया जाये तो एक के लिए उचित किसी दुसरे के लिए अनुचित हो सकता है और जो दुसरे के लिए अनुचित हो वह अन्य के लिए उचित हो सकती है !

दूसरों को मुर्ख समझने वाला वास्तव में मुर्ख होता है

स्वयं को महाज्ञानी ,महापंडित समझना आपका आपमें विश्वास को दर्शाता है और दुसरे को अज्ञानी या मुर्ख समझना दुसरे में अविश्वास को !स्वयं में विश्वास सर्वोत्तम है दुसरे में विश्वास भी उत्तम है व्यक्ति में विश्वास व्यक्ति के सम्मान को दर्शाता है !

व्यक्ति में अविश्वास अर्थात आत्मसम्मान पर आघात

जिस प्रकार आप अपने आत्म सम्मान की रक्षा के लिए उत्तरदायी हैं ठीक उसी प्रकारर अन्य भी जब आप अन्य व्यक्ति में अविश्वास दर्शाते हैं तो व्यक्ति के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचती है याद रखिये व्यक्ति का सबसे बड़ा शत्रु शारीरिक चोट देने वाला नहीं अपितु मानसिक आघात देने वाला होता है !

व्यक्ति का आंकलन उसकी एक भूल के आधार पर मत कीजिये

यदि आप पंडित हैं !तो हो सकता है अन्य व्यक्ति महापंडित हो ? केवल बखान से ही कोई महापंडित नहीं बन जाता !भूल -चूक तो सृष्टि का नियम है !भूल चूक के कारण ही तो व्यक्ति व्यक्ति है !व्यक्ति यदि गलती ना करता तो व्यक्ति नहीं रहता फरिश्ता बन जाता !किसी की भूल सामने आ जाती है और किसी की छुपी रह जाती है परन्तु एक भूल का अर्थ ये नहीं की व्यक्ति के अस्तित्व को ही नकार दिया जाये !कोई न कोई कमी सब में होती है परन्तु एक कमी का अर्थ यह नहीं की व्यक्ति की सारी अच्छाइयों को नकार दिया जाये !

लोगों की बुराइयों को भूलकर अच्छाइयों को याद रख आगे बढ़ते रहिये अगले ब्लॉग में फिर मुलाक़ात होगी तब तक हँसते रहिये -हँसाते रहिये जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिये !

धन्यवाद

🙏🙏🙏

life, motivation, personality development, safalta ke mool mantra

“यूं ही कड़वा करेला किसी की प्राथमिकता नहीं बन जाता !”

जीवन उस अद्भुत करिश्माई शब्द का नाम है जो विभिन्न खट्टे, मीठे कड़वे व नमकीन अनुभव कराता रहता है व्यक्ति फिर भी जीवन में कभी हार नहीं मानता और निरंतर संभावनाएं तलाश करता रहता है !संभावना का अर्थ है संभव होना और बात जब संभव होने की हो तो आप जानते ही हैं कि इस संसार में असंभव कुछ भी नहीं है !यद्यपि मृत्यु को आप नियंत्रित नहीं कर सकते तथापि मृत्यु के अतिरिक्त समस्त विषय आपके नियंत्रणाधीन हैं सबसे महत्वपूर्ण है आपका विश्वास जो आपको असफल नहीं होने देता कठिन परिस्थितियों में भी आपको थामे रखता है !

जीवन आपको कई खट्टे ,मीठे ,कड़वे अनुभव परोसता रहता है जीवन की इस अद्भुत थाली में परोसे गए इन व्यंजनों में से क्या खाना है ?क्या नहीं ?चुनाव आपका होता है ,कहा जाता है यदि विकल्प हो तो चुनाव सरल हो जाता है यद्यपि चुनाव आपकी समझ पर निर्भर करता है की आप स्वस्थ रहने के लिए खाते हैं या स्वाद के लिए !

Pixabsy .com
pic by pixabay.com

वास्तविकता तो यह है कि स्वस्थ रहने के लिए हमें खट्टे , मीठे, कड़वे सभी व्यंजनों की सम्मिलित रूप से आवश्यकता होती है यदि ऐसा नहीं होता तो भोजन में कड़वे व्यंजनों का महत्व न होता “यूँ ही तो कड़वा करेला किसी की प्राथमिकता नहीं बन जाता !”

जीवन में स्वाद और स्वास्थ्य दोनों में संतुलन आवश्यक है एक शरीर को स्वस्थ बनाता है और दूसरा जीवन को आ आनंदमय अतः जिस प्रकार एक स्वस्थ्य जीवन के लिए प्रोटींस , विटामिंस , कार्बोहाइड्रेट्स मिनरल्स से परिपूर्ण एक संतुलित भोजन की आवश्यकता होती है ठीक उसी प्रकार खट्टे , मीठे ,कड़वे और कुछ नमकीन अनुभवों का संतुलन जीवन को दिशा प्रदान करते हैं !

भोजन और जीवन दोनों के मध्य अंतर केवल चुनाव का है भोजन में इस संतुलन को हम स्वयं अपनाते हैं और कुछ अनुभव ना चाहते हुए भी जीवन में आ जाते हैं घबराइए नहीं यह कुछ एक क्षण ही आप को त्रस्त करगे क्योंकि जीवन में स्थिर कुछ भी नहीं है !

आप हाथ में पूजा की थाली लेकर समर्पण भाव से पूजा अर्चना करते हैं और बदले में मनोकामना करते हैं इच्छा कुछ पाने की जीवन में अद्भुत हो जाने की परंतु क्या आप जानते हैं ईश्वर ने यह यह थाली कर्म प्रधान बना रखी है ?तात्पर्य यह हुआ कि बाधित ना हो परिस्थितियों के वशीभूत होकर हार न माने कर्म प्रधान रहे !चलाएं मान रही है रुका हुआ तो जल भी दुर्गन्ध मारने लगता है इसलिए सदैब चलायमान रहें आगे बढ़ते रहें !

कई बार खट्टा खाने से दांत खट्टे हो जाते हैं और एसिडिटी हो जाती परंतु क्या हम खट्टा खाना छोड़ पाते हैं ?यद्यपि हम जानते हैं कि मीठा खाने से डायबिटीज हो जाती है परंतु क्या हम मीठा खाना छोड़ पाते हैं ?अधिक नमक ब्लड- प्रेशर का कारण बनता है यह जानते हुए भी क्या हम नमक लेना छोड़ पाते हैं ?क्या आपने कभी विचार किया है की पूर्णता नियंत्रण के अधीन होने के पश्चात भी हम इन हानिकारक भोज्य पदार्थों के सेवन पर आंशिक नियंत्रण ही स्थापित कर पाते हैं ! तो कटु अर्थात कड़वे अनुभव जो ह दूसरों से पाते हैं उन्हें पूर्णतः नियंत्रित कैसे कर सकते हैं ?इन्हें पूर्णतः नियंत्रित तो नहीं कर सकते परन्तु इनसे सीख लेकदर आगे अवश्य बढ़ सकते हैं !चाहे आर्थिक परिणाम ही क्यों ना प्राप्त हो प्रयास करना मत छोड़िए !

प्रयास करते रहिए ,आगे बढ़ते रहिए अगले ब्लॉग में फिर मुलाकात होगी तब तक हँसते रहिये हँसाते रहिये जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिये !

धन्यवाद

🙏🙏🙏

war
देश, सोशल ईविल, deshbhakti, Society, solution of a problem

” एक सैनिक की क़लम से !”

प्राणों की आहुति का उद्देश्य

एक सच्चा देश भक्त अपने देश की रक्षा के लिए हंसते – हंसतेअपने प्राणों की आहुति दे देता है अपने प्राण न्योछावर करते हुए भी उसका सर गर्व से उठा रहता है !वह देश की रक्षा के नाम पर अपने प्राणों की आहुति इसलिए देता है ताकि उसका देश गौरवान्वित अनुभव कर सके ,आने वाली पीढ़ियां अपने देश पर गर्व कर सकें ,देश के नागरिक स्वयं को सुरक्षित अनुभव कर चैन की साँस ले सकें और उसका देश तीव्र गति से चहुमुखी विकास कर सकें!

जो स्वयं मरकर भी देश का सर गर्व से ऊँचा कर जाता है

हथियार डालकर अपने प्राणों की रक्षा का विकल्प तो सदैव एक सैनिक के सामने विद्यमान रहता है मगर वह स्वीकार करता है अपने प्राणों का बलिदान देना ,समर्पण कर के पीठ दिखा कर देश को धोखा देने से अच्छा है जय हिंद के नारे के साथ सीने पे गोली खाकर अमर शहीदों में अपना नाम अंकित करा ले !वह स्वयं मर कर भी अपने देश को ज़िंदा रखता है !

deshbhakt
pic by pixabay.com

संघर्ष का उद्देश्य

फौज में भर्ती होने वाला कोई सैनिक नहीं जानता कि वह अब अपने घर परिवार में वापस लौट भी पाएगा अथवा नहीं हर पल हर एक क्षण उसके लिए संघर्ष का क्षण होता है उसका यह संघर्ष देश के लिए होने के साथ-साथ स्वयं अपनी आती जाती हर श्वास के साथ की कहीं ये उसकी आख़री श्वांस तो नहीं ,अपने घर परिवार के लिए जीवित वापस लौटने का संघर्ष ,शत्रु के नापाक इरादों को नाकाम करने का संघर्ष , आने वाली पीढ़ी को एक खुशहाल देश सौंपने का संघर्ष !

क्या हम उनकी अभिप्रेरणा का स्रोत नहीं बन सकते ?

हमारे देश का सैनिक स्वयं के संघर्ष पर गौरवान्वित तब होता है जब वह अपने देश को विकसित होते हुए देखता है !आर्थिक विकास ,सामाजिक सद्भाव ,विविधता में एकता की संस्कृति उसे और अधिक उत्साहित करती है वह इस सब से प्रेरणा पाकर सीमा पर निरंतर डटा रहता है अपने प्राणों की आहुति देकर देश की रक्षा करने के लिए तत्पर रहता है ! न की इसलिए की देश में सामाजिक एवं आर्थिक बिखराव हो !

सैन्य सुरक्षा का उदेश्य असुरक्षा तो कदापि नहीं हो सकता !

क्या हमारे देश का सैनिक अपने प्राणों की आहुति इसलिए देता है कि देश में आंतरिक कलह आगज़नी ,दंगों की स्थिति बने ?क्या हमारे देश का सैनिक अपने प्राणों की आहुति इसलिए देता है कि राजनीतिक प्रपंच के चलते समाज में जात -पात का खेल चलता रहे ?क्या हमारे देश का सैनिक अपने प्राणों की आहुति इसलिए देता है कि आर्थिक संसाधनों को दंगों की आग में झोक दिया जाये ?क्या हमारे देश का सैनिक अपने प्राणों की आहुति इसलिए देता है की मोबलिंचिंग की जाए व्यक्ति समूह द्वारा एक निहत्थे व्यक्ति को मारा जाए ?क्या हमारे देश का सैनिक अपने प्राणों की आहुति इसलिए देता है कि अल्पसंख्यकों के मन में असुरक्षा की भावना जागृत हो ?क्या हमारे देश का सैनिक अपने प्राणों की आहुति इसलिए देता है कि असुरक्षा की भावना से संपूर्ण समाज अस्त-व्यस्त हो जाए ?

जहां राष्ट्र की सुरक्षा ही खतरे में हो वहाँ अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा का क्या लाभ ?

एक सैनिक की दृष्टि से नालत है ऐसे सैनिक होने पर जहां जनसाधारण ही स्वयं को असुरक्षित अनुभव करते हो ऐसे देश की अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा का क्या लाभ जिस देश की राष्ट्रीय सुरक्षा ही असुरक्षित हो ?देश की सुरक्षा का मूल्य केवल वह सैनिक ही जान सकता है जो देश की रक्षा के लिए अपनी जान तक की बाजी लगा देता है !

और भी हैं गम ज़माने में मोहब्बत के सिवा

यह एक साधारण प्रश्न नहीं हमारी मानवता पर आघात है यदि विचार करेंगे तो यथ आपकी अंतरात्मा को अवश्य कटोचेगा ! “पहले ही दुश्मनों की क्या कमी थी के दोस्तों को भी दुश्मन बनाने चले हैं !”गहन विचार कीजिये वास्तविक समस्या की खोज कर समस्या का निदान ढूंढिए “और भी है गम जमाने में मोहब्बत के सिवा “आतंकवाद ,उग्रवाद ,क्षेत्रवाद, कट्टरवाद ,अशिक्षा, बेरोजगारी , स्वस्थ्य ,सामुदायिक विकास …………आदि !

वास्तविक समस्याओं पर विचार कीजिए उनका हल ढूंढिए अगले ब्लॉग में फिर मुलाकात होगी तब तक के लिए हंसते रहिए -हंसाते रहिए ,जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिए !

धन्यवाद

🙏🙏🙏

www.pixabay.com
motivation, personality development, safalta ke mool mantra, solution of a problem

“क्या आपने भी कभी बोये हैं उम्मीद के बीज ?”

अँधेरा रोशनी की उम्मीद देता है और रोशनी कुछ करने का जुनून तभी तो दिन ढलने के बाद चारो तरफ अँधेरा होने के बाद भी दिल बेचैन नहीं होता या वो क्या चीज़ है जो उसे बेचैन नहीं होने देती ?वो एक मैजिक वर्ड है जिस पर सारी दुनिया टिकी हुई है !आप बिलकुल सही सोच रहे हैं में उम्मीद की ही बात कर रही थी !

एक उम्मीद अपने साथ जाने कितने ख्वाब लेकर आती है और हर एक ख्वाब अपने पूरा होने का जूनून !इसी उम्मीद ,ख्वाब और जूनून का नाम ही ज़िन्दगी है !कभी कुछ पाने का जूनून तो कभी खोने की दीवानगी बस इसी पाने और खोने का नाम ही है गम और ख़ुशी !यही वह दो चीज़ें हैं जो ज़िंदगी मैं उथल- पुथल मचती है ” खुशी को हर कोई रोके रखना चाहता है परन्तु खुशी की एक आदत होती है वह दूर के किसी सम्बन्धी की तरह होती है अधिक समय तक नहीं ठहरती और इसके बिलकुल विपरीत “गम को कोई रोकना नहीं चाहता परन्तु वह पास के वफ़ादार सम्बन्धी की तरह होता है और ये अगर एक बार आजाये तो लम्बे समय तक छोड़कर नहीं जाता !

सुख दुःख का ये चक्र सदैव चलता रहता है और इसी के इर्द-गिर्द जीवन की नैया डोलती रहती है हार नहीं मानना उम्मीद फिर भी ज़िंदगी से यही बोलती रहती है !कुछ पाने का जूनून और उसको पाकर मिलने वाला सुकून दोनों की उम्मीद बानी रहती है !

उम्मीद के सम्बन्ध मैं एक बहुत प्रसिद्ध कहावत है “उम्मीद पे दुनियां क़ायम है “वो उम्मीद ही है जो व्यक्ति को नेगेटिविटी से निकालकर पाजिटिविटी की तरफ मोड़ देती है उम्मीद की वजह हो या न हो “वजह ढूंढ़ने की भी वजह देती है “सत्तर के दशक की एक पिक्चर “आनंद ” पूर्णतः इसी पर आधारित थी राजेश खन्ना के प्रसिद्ध डायलॉग बाबू मुशाये को शायद ही आज भी कोई भूल पाया हो वो चीज़ें जो लीग से हटकर होती हैं दिल पर एक चाप छोड़ जाती हैं !

hope
Ummeed ka beej

निराशा के समय में आशा का दामन थामे रखना ,यह हर किसी के बस की बात नहीं होती लीक से हटकर दूसरों के द्वारा किए जाने वाले काम तो हमे अच्छे लगते परंतु जब अपनी बारी आती है तो आप घबरा जाते हैं ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आप मन से हार मान चुके होते हैं वो क्योंकि इस बार समस्या किसी और की नहीं बल्कि आपकी अपनी होती है दूसरों की लीक से हटकर किये जाने वाले काम आपको इसलिए भी पसंद आते हैं क्योंकि उस वक्त आपका माइंड खुला हुआ होता है परंतु जब आपकी अपनी बारी आती है तो आपकी सोचने समझने की क्षमता क्षीण हो जाती है !

ज़िंदगी में दो ही चीज़ें हैं सुख व दुःख जीवन दुखों से समाप्त नहीं होता जीवन समाप्त होता है निराशा से इसलिए जिंदगी में कभी भी हार मत मानिए बड़े ख्वाब, बड़े होसलों और बड़ी उम्मीदों के साथ बढ़ते रहिए याद रखिये होंसला रखने वालों की कभी हार नहीं होती कुछ लोग तो इस विचारधारा का समर्थन करते हैं कुछ का मानना है कि जिंदगी आपको वह कभी नहीं देती जो आप जिंदगी से चाहते हैं जैसे जिंदगी -जिंदगी ना हुई आपकी दुश्मन हो गई !

जिंदगी आपको वह सब कुछ देती है जो आप जिंदगी से चाहते हैं जरूरत बस एक सही चीज की सही वक्त पर उम्मीद करने की और सही दिशा में आगे बढ़ने की, और आपकी एनर्जी ,आपका हौसला और आप के जुनून को उसी दिशा में बनाये रखने की अगर आप इन सब चीजों का एक निर्धारित दिशा में उपयोग करने में सफल हो जाते हैं तो ना केवल आप अपनी ही उम्मीदों पर खरा उतरने में सक्षम होंगे अपितु दूसरों के लिए भी उम्मीद की एक किरण बन जायेंगे !

जिंदगी आपको वह सब कुछ देती है जो आप इससे चाहते हैं इसलिए एक दिशा निर्धारित कर आगे बढ़ते रहिए अगले ब्लॉग में फिर मुलाक़ात होगी तब तक हंसते रहिए- हंसाते रहिए जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिये !

धन्यवाद

🙏🙏🙏

life, Mental health and personality development, motivation, personality development, safalta ke mool mantra, Society, solution of a problem

“स्वप्न देखना कभी मत छोड़िये बल्कि रोज़ एक नया स्वप्न देखिये !”

शेख चिल्ली वाले स्वप्न

प्रत्येक व्यक्ति का एक स्वप्न होता है जिसे वे सच में परिवर्तित करना चाहता है !सपनों की भी अपनी एक दुनिया होती है !सभी उठापटक से दूर ,बिना प्रयास के फल की इच्छा “आसमानों में उड़ान रहन-सहन आलीशान “सब कुछ अपनी पहुंच में वह कहावत है ना शेखचिल्ली जो छोटी छोटी सी बातों को बड़ा करके बताते हैं सपनों की दुनिया में जीने वालों का भी यही हाल होता है बिना स्रोतों के ऊंची उड़ान बिना प्रयास के सब देगा भगवान !

Blog
हवा में क़िले मत बांधिए !

स्वप्न का लक्ष्य के साथ सम्बन्ध स्थापित कीजिये

ऊपरवाला अपने भक्तों की हर मनोकामना पूरी करता है !व्यक्ति इच्छा करता है ,ऊपर वाला पूरी करता है ,व्यक्ति चलना आरंभ करता है -ऊपर वाला मंजिल तक पहुंचाता है,व्यक्ति कर्म करता है- ऊपर वाला फल देता है ,तात्पर्य यह हुआ कि हर चीज का “परस्पर संबंध “होता है जो पूर्व निर्धारित होता है !

भाग्य को जगाने के लिए कर्म प्रधान बनिए

इस प्रकार ऊपर वाला भाग्य रचयिता , सृष्टि कर्ता ,फलदाता सब कुछ होते हुए भी उसने “कर्म और फल “के बीच एक महत्वपूर्ण संबंध स्थापित किया है ! यही संबंध जीवन में आप को आगे ले जाता है !आपके भाग्य को फलीभूत करता है ,आपका जीवन सुख- समृद्धि से भर कर आपको भाग्यशाली बनाता है परन्तु यह सब संभव कैसे हो पाता है केवल कर्म से अर्थात प्रयास से ,प्रयास अर्थात विश्वास से !

प्रतिदिन एक नया लक्ष्य निर्धारित कीजिये

स्वप्न व्यक्ति को आशावादी बनाते हैं इसलिए व्यक्ति को कभी स्वप्न देखना नहीं छोड़ना चाहिए अपितु एक नए लक्ष्य के साथ प्रतिदिन एक नया स्वप्न देखना चाहिए वो भी खुली आँखों से ,क्योंकि खुली आंखों से देखे गए स्वप्न सदैव कर्म प्रधान होते हैं और जहां कर्म की प्रधानता होती है वहां फल स्वतः ही चल कर आता है !

सही दिशा में आगे बढिये

स्वप्न छलावा नहीं है यदि लगन सच्ची हो और पूरे विश्वास से आगे बढ़ा जाये तो यह सत्य अवश्य होते हैं यदि लक्ष्य निर्धारण उपलब्ध संसाधनों के आधार पर किया जाए तो लक्ष्य की प्राप्ति की संभावना और अधिक बढ़ जाती है यह लक्ष्य की प्राप्ति अर्थात स्वप्न की प्राप्ति को एक निश्चित दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है !

आशावादी रहिये -आगे आगे बढ़ते रहिए! अगले ब्लॉग में फिर मुलाकात होगी तब तक के लिए हंसते रहिए -हंसाते रहिये जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिये !

धन्यवाद

🙏🙏🙏

by pixabay.com
life, Mental health and personality development, motivation, personality development, solution of a problem

“व्यक्ति विचारों से ही ज़िंदा है !”

विचार जीवन का आधार है

जीवन विचारों के साथ आरंभ होता है और विचारों के साथ ही समाप्त हो जाता है ! एक अद्भुत विचित्र लगने वाला यह जीवन कुछ और नहीं विचारों का एक सिलसिला मात्र है !कभी शुन्य से आरंभ तो कभी शुन्य पर समाप्त अर्थ यह हुआ की जीवन का आरम्भ और अंत दोनों ही विचारों पर निर्भर करता है जब तक विचार हैं तब तक हम हैं जिस दिन विचार नहीं समझो हम भी नहीं !अर्थात विचार जीवन का आधार है !

बुद्धिमत्ता की पहचान

विचार आते कहां से हैं !विचार हमारे मन और मस्तिष्क के सयोजन का परिणाम हैं जहां मन और मस्तिष्क मिलते हैं वहीं विचार उत्पन्न होते है मन और मस्तिष्क का यह अद्भुत संबंध केवल मनुष्यों में ही पाया जाता है सोच समझ के लिए एक विकसित मस्तिष्क की आवश्यकता होती है जो समस्त जीवधारीयों की अपेक्षा केवल मनुष्य में ही पाया जाता है !विचार परिवर्तनशील होते हैं जो परिस्थिति के अनुरूप परिवर्तित होते रहते हैं ,परिस्थिति और विचारों का यह अद्भुत संबंध भी केवल मनुष्यों में ही देखने को मिलता है तभी तो मनुष्य सर्वाधिक बुद्धिमान कहलाता है !

विचार हमारी समझ व हमारे ज्ञान के धोतक है वह विचार ही है जो व्यक्ति को मान-सम्मान दिलते हैं यदि व्यक्ति महान बनता है तो अपने विचारों से !घर- परिवार ,कार्य -व्यापार सब की सफलता व असफलता विचारों पर ही निर्भर करती है !इस प्रकार विचार हमारे संबंधों को जोड़ने वाली कड़ी का काम करते हैं अतः इस प्रकार यह हमारे संबंधों को सींचने वाला वाला अमृत है !

विचार परिवर्तन के धोतक हैं

क्रांतिकारी विचारों ने एक बड़ा परिवर्तन ला दिया जब इन्हीं विचारों ने प्रेम का रूप धारण किया तो हीर राँझा को बना दिया !करुणा ,दया ,ममता ,सुख -दुख और जाने क्या-क्या ?सब कुछ इन विचारों की ही तो देन है !कभी बंधन युक्त कर लेते हैं तो कभी बंधन मुक्त !यह जीवन को आधार प्रदान करते हैं और निराधार भी यही बनाते हैं कभी हमें अपने सुख के लिए जीने को प्रेरित करते हैं तो कभी अन्यों की भावनाओं को आहत ना करने के लिए अतः इस प्रकार विचारों की स्वाधीनता और पराधीनता का नाम ही जीवन है !

Pic by pixabay.com

जब हम विचारों की बात करते हैं तो विचारों का अर्थ होता है विचारशील होना !विचार अर्थात प्रगति, प्रगति इसलिए क्यूंकि हमारा भविष्य भूत के विचारों के आधार पर ही दिशा पता है व्यक्ति की सफलता एवं असफलता उसके सकारात्मक एवं नकारात्म विचारों पर ही निर्भर करती है !जीवन में नवाचार नयापन सब कुछ विचारों पर ही निर्भर करता है इसका अनुमान विश्व में होने वाली विभिन्न क्रांतियों से लगाया जा सकता है जिनका आरंभ विचारों से ही हुआ !

विचार व्यक्ति के अस्तित्व की पहचान है अतः इन्हें निरंतर रखिये वैचारिक निरंतरता से ही जीवन चलाएं मान है !अपनी वैचारिक निरंतरता को जारी रखते हुए आगे बढ़ते रहिये अगले ब्लॉक में फिर मुलाकात होगी तब तक के लिए हंसते रहिए- हंसाते रहिए ,जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिए !

धन्यवाद

🙏🙏🙏

pic by pixabay com
सोशल ईविल, life, personality development, Society

“मानव का उपहास नैतिकता का हास !”

उपयोगिता का हास अस्तित्व होता समाप्त

प्रत्येक वस्तु की अपनी एक विशेषता होती है और उसकी यही विशेषता उसे विशिष्ट बनती है औरों से भिन्न ,औरों से अलग, औरों से जुदा और कब उसकी यही भिन्नता एवं विशिष्टता उपयोगिता में परिवर्तित हो जाती है पता ही नहीं चलता !और जब किसी का आकलन उपयोगिता के आधार पर किया जाने लगे तो फिर चाहे वह वस्तु हो अथवा व्यक्ति केवल उपयोगी रहने तक ही सर्वप्रिय बना रहता है और उपयोगिता के हास के साथ ही उसका अस्तित्व भी समाप्त हो जाता है !

क्या एक असंवेदनशील समाज को सभ्य समाज की संज्ञा देना उचित होगा ?

यह कैसी विडंबना है इस असंवेदनशील समाज की जिसमें निर्जीव और सजीव के बीच का अंतर ही समाप्त होता जा रहा है आज व्यक्ति जिस सभ्य समाज में रहने का दंभ भरता है !क्या वास्तव में इसे एक सभ्य समाज कहां जा सकता है ?और यदि हां तो कैसे ?व्यक्ति की विशिष्टता का आकलन उसकी उपयोगिता के आधार पर करने से ,वस्तुओं को उसके सापेक्ष ला खड़ा करने से ,किसी की मनोभावना को चोट पहुंचाने से ,लोगों के साथ किये जाने वाले असंवेदनशील व्यवहार से या व्यक्ति का उपहास उड़ाने से…………..?

परिवर्तित होती मानवीय सोच

क्या व्यक्ति की सोच इतनी सीमित हो गई है ?क्या उसके समझ का दायरा इतना मशीनी हो गया है ?क्या व्यक्ति केवल एक हाड़ -मास का पुतला मात्र बनकर रह गया है ?प्रेम ,समर्पण ,त्याग क्यायह सब गुज़री हुई बातें बनकर रह गयी हैं?और यदि है भी तो कृपा स्वरूप !

ये कैसा रूप है मन की तंग गलियों का ? यह कैसा कुरूप रूप है सुंदरता का चोला ओढ़े समाज का ?

आज मनुष्य ने कृत्रिम सौन्दर्य प्रसाधनों से तन को सुन्दर बनाने में तो सफलता अर्जित करली है !परंतु मन की सुंदरता पर कोई विचार नहीं करता जो मुफ्त में मिलती है और व्यक्ति को अमूल्य बना देती है !

मूल्य हमें अमूल्य बनाते हैं और अमूल्य होने में ही विशिष्टता है

एक दूसरे पर विश्वास, एक दूसरे का सहयोग ,एक दूसरे की भावनाओं का सम्मान कभी बस यही थी हमारी पहचान !क्यूँ न हम अपनी पहचान को दोबारा निर्मित करें ?भावना ,संवेदनशीलता और करुणा जिसके लिए हम विश्व प्रसिद्ध रहे हैं !क्यों ना उन्हें पुनर्जीवित करें !हम अपनी धरोहरो को खंडित ना होने दें, उन्हें सहेजें यह हमारे अतीत की विरासत हैं इनकी रक्षा करना हमारा कर्तव्य है !यह हमें अमूल्य बनाती हैं और अमूल्य होने में ही विशिष्टता है हमने आर्थिक विकास व तकनीक के साथ -साथ अन्य क्षेत्रों में तो खूब कीर्तिमान स्थापित किये हैं अपनी विशिष्ट के झंडे गड़े हैं तो इस क्षेत्र में क्यूँ नहीं ?जब हम Z तक पहुँच गए तो A,B,C,D तो हमारे बायें हाथ का खेल है !

हमें हमारी मूल्य रूपी धरोहर को जीवित रखना होगा

नैतिकता का हास मानवता का हास है !याद रखिए प्रत्येक मशीन मनुष्य का अविष्कार मात्र है परंतु मनुष्य ईश्वर की एक अनमोल कृति है जिसका गुड़ है मनुष्यतव !एक मनुष्य सैकड़ों मशीनों का निर्माण कर सकता है परन्तु संसार की समस्त मशीने मिलकर भी एक मनुष्य का निर्माण नहीं कर सकती तभी तो मनुष्य अमूल्य है और मनुष्यत्व उसकी धरोहर जिसकी रक्षा हमारा कर्त्तव्य ही नहीं अपितु धर्म है !

नैतिकता को सहेजिये मनुष्यत्व की रक्षा कीजिये !अगले पोस्ट में फिर मिलेंगे तब तक हँसते रहिये -हांसाते रहिये जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिये !

धन्यवाद

!!!🙏🙏🙏!!!

सोशल ईविल, life, shayree

“ज़माना खराब है !”

Pics by http://www.pixels.com

Tum bas khud ke liye jiyo !
khushee khud kee hee khaas hai !!
phir kehte ho -zamana kharab he !!!
swatantra astitva
सोशल ईविल, beauty, humble ,kind and polite, life, Society

“स्त्री ,जो समस्त संसार का आधार है ! स्वयं निराधार कैसे हो सकती है?”

संसार में नारी को निसहाय निर्बल व अबला समझने वालों की कोई कमी नहीं है !नारी अबला नहीं है ,न हीं वह बेचारी है वह तो षड़यंत्र की मारी है! नारी को अबला प्रचारित या घोषित करना इस छदम पुरुषप्रधान समाज का एक दुस्साहस प्रयास मात्र है !प्रेम, मोह- माया व संबंधों के प्रति समर्पण ममता व करुणा के वशीभूत होकर उसने स्वयं ही अपनी प्रगति को बाधित किया है जो कि उसकी कोमल भावनाओं का प्रतीक है उसकी कोमलता से उसकी कमजोरी का अनुमान लगाना पूर्णतःअनुचित है !

महिलाओं के संदर्भ में इस गीत की पंक्तियाँ बहुत सटीक बैठती हैं
कोमल है कमज़ोर नहीं तू !
शक्ति का नाम ही नारी है !!
motivation, personality development, solution of a problem

“क्यूंकि डर के आगे जीत है !”

लक्ष्य निर्धारण की स्थिति

लक्ष्य के निर्धारण की स्थिति में मन उच्च मनोभावों का अनुसरण करता है तभी तो लक्ष्य के निर्धारण के साथ ही कुछ लोगों का व्यवहार यूं प्रतीत होता है मानो लक्ष्य का निर्धारण ना किया गया हो वरन लक्ष्य की प्राप्ति कर ली गई हो !जबकि वास्तव में लक्ष्य के निर्धारण और लक्ष्य की प्राप्ति में एक महत्वपूर्ण अंतर होता है एक में महत्वाकांक्षा त्मा सकारात्मकता और दूसरे में एक लंबे मार्ग को तय करने से होने वाली खीझ व थकन जो एक लंबे मार्ग से गुजरने के पश्चात होती है !

लक्ष्य प्राप्ति का डर और द्वन्द

लक्ष्य की प्राप्ति में एक लम्बे मार्ग का अनुसरण करना पड़ता है !यह एक लम्बा मार्ग है जिसमे कई बाधाओं को लांघना होता है जो व्यक्ति लक्ष्य का निर्धारण कर ‘होगा या नहीं ‘ के नकारात्मक द्वन्द में फंस जाता है और लक्ष्य के मार्ग में आने वाली बाधाओं से घबराकर हार मान लेता है उसके मन में नकारात्मकता का भाव भर जाता है उसके मन में एक डर बैठ जाता है एक ऐसा डर जो उसके लक्ष्य को मार्ग में ही निगल जाता है !

लक्ष्य प्राप्ति में संघर्ष का महत्व

इसके विपरीत जो व्यक्ति संघर्ष करते हुए बाधाओं को पार कर जाता है वास्तव में वही विजय श्री पाता है !इस प्रकार कहा जा सकता है की लक्ष्य व संघर्ष का अटूट सम्बन्ध है लक्ष्य के बिना संघर्ष और संघर्ष के बिना लक्ष्य का कोई मोल नहीं !

आपका लक्ष्य आपकी मनोभावना पर निर्भर करता है जो की किसी वास्तु अथवा व्यक्ति विशेष के प्रति मनुष्य में लालसा के रूप में विद्यमान रहता है !

लक्ष्य के रूप

लक्ष्य यथार्थ एवं आदर्श दोनों रूपों में पाया जाता है जिसका प्रभाव व्यक्ति पर अधिक होता हे उसका लक्ष्य भी उसी से अधिक प्रभावित रहता है !लक्ष्य चाहे यथार्थ आधारित हो अथवा आदर्श आधारित संघर्ष दोनों में विद्यमान रहता है !लक्ष्य एक स्वप्न की भांति होता है !

वास्तविक विजेता

स्वप्न तो हर कोई देखना चाहता है लक्ष्य के लाभ से लाभान्वित भी हर कोई होना चाहता है परन्तु लाभ केवल वही पाता है जो हानि की परवाह किये बिना आगे बढ़ जाता है डर जिससे हार जाता है वही विजेता कहलाता है !

हौंसला कीजिये आगे बढिये क्यूंकि ” डर के आगे जीत है !”अगले पोस्ट में फिर मुलाक़ात होगी तब तक के लिए हँसते रहिये -हंसाते रहिये जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिये !

धन्यवाद

🙏🙏🙏

two
motivation, personality development, safalta ke mool mantra, solution of a problem

“क्या संचार के अभाव में विश्वास का निर्मित होना संभव है !”

विश्वास का अर्थ है परस्पर समझ जो संचार द्वारा ही संभव है

विश्वास का अर्थ है परस्पर समझ और यह समझ परस्पर संचार से विकसित होती है !यदि कुशल संचार की तुलना एक कुशल मनोवैज्ञानिक विशेषज्ञ से की जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी , जिस प्रकार मनोचिकित्सक रोगी के मनोविज्ञान को भली-भांति जान जाता है ठीक उसी प्रकार एक प्रबंधक अधीनस्थ की मनोदशा को जानकर सामंजस्य बैठता है संगठन व कर्मचारी के उद्देश्यों में एकीकरण स्थापित कर दोनों को एक -दूसरे के लिए उपयोगी बनाता है !वह उसे विश्वास दिलाता है की संगठन के हित में ही उसका हित है इस प्रकार वह विश्वास के माध्यम से दोनों के हितों को जोड़ देता है ! इस प्रकार संचार दो मस्तिष्कों के मध्य साझा समझ स्थापित करने वाला कारक है !

विकास विचारों के आदान -प्रदान द्वारा ही संभव है

संचार एक सामान्य शब्द है जिसका उपयोग जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में किया जाता है संचार दो मस्तिष्कों को बांधने वाला पूल है !जो बंधता है परस्पर विश्वास से ,परस्पर हितों से और परस्पर विचारों के आदान-प्रदान से ,कई बार परिस्थितियां भी इस सामंजस्य के लिए उत्तरदायी होती हैं !उचित समय पर उचित संचार से उचित निर्णयों को बढ़ावा मिलता है जिससे विकास का मार्ग प्रशस्त होता है !

संचार सहयोग प्राप्त करने का माध्यम है

परस्पर विश्वास से दो व्यक्तियों के मध्य संचार को बढ़ावा मिलता है और संचार के माध्यम से अन्य व्यक्ति की प्रेरणा को समझ कर उसे विभिन्न प्रोत्साहनओ के द्वारा अभीप्रेरित कर परस्पर उद्देश्यों में उसका सहयोग प्राप्त किया जा सकता है !अभी -करना प्रेरणाओं के माध्यम से व्यक्ति का सहयोग प्राप्त करना सरल है यदि सहयोग प्राप्त करता और सहयोग प्रदान करता का लक्ष्य समान हो तो ऐसे में व्यक्ति का सहयोग प्राप्त और भी सरल हो जाता है !

प्रश्न का अर्थ संदेह नहीं अपितु संबंधों में निकटता लाना है

पिछले पोस्ट में हम इस विषय पर चर्चा कर रहे थे कि प्रश्न पूछने का अर्थ होता है संदेह करना परंतु आज के समय में इसका अर्थ पूर्णता परिवर्तित हो चुका है ,प्रश्न का अर्थ संदेह होना यह प्रश्न की प्राचीन परिभाषा हुआ करती थी वर्तमान युग में प्रश्न का अर्थ पूर्णता परिवर्तित हो चुका है वर्तमान युग में प्रश्न से तात्पर्य है संबंधों में निकटता लाना !वर्तमान में प्रश्न इस सिद्धांत पर आधारित है कि अधिकतर संबंध प्रभावी संचार के अभाव में ही दम तोड़ देते हैं एक दूसरे पर अविश्वास का प्रमुख कारण ही अकुशल संचार है ! इस विषय पर हम पहले भी चर्चा करचुके हैं की संचार दो मस्तिष्कों को जोड़ने वाला पूल है और दो लोगों के मध्य ये विश्वास का पूल तभी बंध सकता है जब मन और मस्तिष्क एक हो जायें अर्थ यह हुआ की कथनी और करनी में अंतर से व्यक्ति संदेह के दायरे में आ जाता है !

मन और मस्तिष्क का चोली -दामन का साथ है

संदेह का निराकरण मन और मस्तिष्क के एकीकरण द्वारा ही संभव है क्योंकि मन व मस्तिष्क का साथ ‘चोली -दामन ‘का साथ है क्योंकि मन के चाहे बिना मस्तिष्क सोच नहीं सकता और मस्तिष्क के सोचे बिना मन आगे नहीं बढ़ सकता अतः जब व्यक्ति का मन व मस्तिष्क एक हो जाता है तो व्यक्ति संदेह रहित हो जाता है और ऐसा प्रायः कुशल संचार द्वारा ही संभव है !

life, motivation, personality development

“विश्वास की डोर न हो कमजोर !”

विश्वास और अविश्वास में द्वन्द

विश्वास और अविश्वास के मध्य द्वंद सदैव चलता रहेगा !इससे संबंधों में कलेश भी होगा और संबंध अपनी महक भी बिखेरते रहेंगे ,कभी नकारात्मकता हद से बढ़ जाएगी तो कभी जिंदगी एक कभी ना भरने वाला घाव लगने लगेगी और जब विश्वास के मोती बिखरने लगेंगे तो अपनों से संबंध टूटने की कल्पना मात्र से सेहर ने लगेंगे !

विश्वास के स्तर

हम विश्वास किसी ना किसी रूप में सब पर करते हैं फिर चाहे वह मित्र हो माता – पिता ,भाग्य ,संबंध ,हां यह बात और है कि विश्वास का स्तर भिन्न – भिन्न संबंधों में भिन्न-भिन्न हो सकता है !

विश्वास अर्थात शक्ति

वास्तव में विश्वास एक समय विशेष में एक व्यक्ति विशेष के प्रति मन में जागृत होने वाला एक सकारात्मक भाव है !जो व्यक्ति को सम्मान के शीर्ष पर बैठा देता है सम्मानीय व्यक्ति को यदि ईश्वर के बाद दूसरे पायदान पर रख दिया जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी ! आपने लोगों को यह कहते अवश्य सुना होगा की यदि ईश्वर आस्था का विषय ना होता तो शायद जीवन में विश्वासपात्र व्यक्ति का स्थान प्रथम होता !जब कोई बीमार हो तो डॉक्टर , जब आप घर बना रहे हो तो इंजीनियर , जब रोड क्रॉस कर रहे हो तो ट्रैफिक लाइट ,जब बच्चे हो तो माता पिता , और जब बूढ़े हो तो बच्चे !इस प्रकार प्रत्येक स्तर पर कोई ना कोई आपके विश्वास का आधार है अर्थात हर स्तर पर कोई ना कोई है जो आपको शक्ति प्रदान करता है !

प्रश्न का अर्थ है संदेह अर्थात अविश्वास

विश्वास नाम ही एक ऐसी शक्ति का है जो हमारे अंदर एक ज्वाला सी प्रज्वलित कर देती है !क्या हम में से कभी किसी ने ईश्वर को देखा है ?नहीं न !ना देखने के बाद भी अगर हम किसी वस्तु के अस्तित्व में विश्वास करते हैं तो तात्पर्य यह हुआ कि हम उस से प्रेम करते हैं !या उस में आस्था रखते हैं !एक ऐसा प्रेम जिसके आगे केवल नतमस्तक हुआ जाता है बिना किसी प्रश्न के क्योंकि प्रश्न का अर्थ है संदेह और संदेह का अर्थ है अविश्वास !

विश्वास नाम है एक अद्भुत शक्ति का

विश्वास एक ऐसा करिश्माई शब्द है जो स्वयं में ही पर्याप्त है क्योंकि विश्वास में एक अद्भुत शक्ति होती है और विश्वास की यही शक्ति असंभव को संभव बना देती है विश्वास एक स्तंभ है जो किसी व्यक्ति अथवा वस्तु को उसकी संपूर्णता में देखता है !अर्थात सकारात्मक पक्ष को संबल प्रदान करता है अनियमित को नियमित में बदल कर अर्थात असत्य को सत्य में बदलकर विकास का मार्ग प्रशस्त करता है !

विश्वास और आत्मविश्वास इच्छा शक्ति के धोतक हैं

विश्वास आपको लोगों से जोड़ता है और आत्मविश्वास आपको जीवन की रेस में आगे ले जाता है और विकास का मार्ग प्रशस्त करता है !किन्हीं विशेष परिस्थितियों में आत्मविश्वास में कमी एक सामान्य लक्षण है !संशय ,संदेह और द्वंद भी मानव मन की एक असंतुलित स्थिति का परिचायक है जो स्थिति विशेष में देखने को मिलता है परंतु प्रत्येक स्थिति में आसंतुलित व्यवहार दो नकारात्मक पक्षों को दर्शाता है एक मानसिक असंतुलन अर्थात मानसिक रूप से रोगी होना और दूसरे आत्मविश्वास मैं कमी का होना !

इससे आपका ढुलमुल रवैया सामने आता है जिससे आप में आत्मविश्वास की कमी उत्पन्न होती है और अन्यों का आप में अविश्वास बढ़ता है !उपरोक्त दोनों ही स्थितियां आपके विकास व आपकी प्रगति को बाधित करती हैं जिससे आप में हीन भावना का विकास होता है !