personality development, solution of a problem

“क्या समस्या का समाधान इतना सरल है ?”

चलते रहना जीवन है !

रुक जाना है मौत !!

बढ़ता चल आगेआगे !

लेके विश्वास की जोत !!

व्यक्ति जीवन ( person life )

व्यक्ति के जीवन में मन की भी एक अजीब स्थिति होती है जरा सी खुशी से खुश और जरा से दुख से दुखी हो जाता है !

मानव मन ( Human mind )

व्यक्ति के जीवन का संचालन इन दोनों ही परिस्थितियों के इर्द-गिर्द घूमता रहता है इस प्रकार सुख – दुख का एक चक्र सा बन जाता है और इस चक्र का सर्वाधिक स्थान घेरता है दुख वह शायद इसलिए क्योंकि हम सदैव अपने सुखों का माध्यम किसी अन्य व्यक्ति अथवाअप्रत्याशित महत्वाकांक्षाओं में ढूंढते हैं किसी पर निर्भर होना ही आपकी सबसे बड़ी कमजोरी सिद्ध होती है !

छदम दम्भ ( False Conceit )

व्यक्ति अपने किसी संबंधी के धन संपत्ति ऐश्वर्य का दम्भ भरता है किसी के मान सम्मान पद प्रतिष्ठा व रुतबे को भुनाने का प्रयास करता रहता है परंतु कब तक ? वास्तव में आपकी सफलताओं से जो आपको मान-सम्मान एवं ऐश्वर्य पद प्रतिष्ठा व रुतबा मिलता है असल में वही आपको खुशी देने वाला होता है
प्रतिकूल परिस्थतियों का सामना
आगे बढ़ने को थोड़ा संघर्ष अवश्य करना पड़ता है क्योंकि वास्तव में जीवन का दूसरा नाम ही संघर्ष है यदि आपको कुछ बनना है कुछ पाना है नाम कमाना है तो संघर्ष तो करना ही होगा संघर्ष आवश्यक तो है परंतु एक सशक्त रणनीति भी उतनी ही आवश्यक है वास्तव में यह दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं रणनीति के बिना संघर्ष और संघर्ष के बिना रणनीति का कोई लाभ नहीं क्यूंकि एक आपको प्रतिकूल परिस्थितियों से लड़ना सिखाता है और दूसरा विजयी होने का मार्ग प्रशस्त करता हे !

सफल जीवन के स्तम्भ ( pillars of successful life )

इस प्रकार संघर्ष सशक्त रणनीति सकारात्मक सोच प्रगतिशील दृष्टिकोण उपरोक्त सभी जीवन को सफल बनाने वाले चार महत्वपूर्ण स्तंभ हैं जिन पर एक सफल जीवन की इमारत खड़ी होती है !

प्रचलित कहावत (Prevalent saying )

जिस प्रकार पुरुष की सफलता हेतु एक कहावत प्रचलित है कि प्रत्येक पुरुष की सफलता के पीछे कोई स्त्री होती है ठीक उसी प्रकार यह कथन भी सटीक बैठता है कि सफलता मुफ्त में नहीं मिलती कई विपत्तियों व प्रतिकूल परिस्थितियों से जूझना पड़ता है !

जो डर गया वह मर गया ( He who was scared died )

वह प्रत्येक व्यक्ति जिसने सफलता का स्वाद चखा है प्रतिकूल परिस्थितियों को बखूबी जानता व समझता है क्योंकि उससे बेहतर कौन जान सकता है कि किसी एक सफलता के पीछे कितनी असफलताएं जुड़ी होती हैं एक सफलता को पाने के लिए वह कितनी बार असफल हुआ है प्रयासों की इस राह में उसके कदम कितनी बार डगमगाए हैं कितनी ही बार उसे अपना जीवन अंधकारमय लगा है परंतु उसने हार नहीं मानी !

संक्रमणकालीन स्थिति (Transit condition)

यही वह स्थिति है जिस पर व्यक्ति की सफलता और असफलता निर्भर करती है क्योंकि यदि ऐसे में व्यक्ति सही निर्णय लेने में सक्षम हो जाता है तो उसका जीवन सफलता की दिशा पा लेता है अन्यथा जीवन अंधकारमय हो जाता है !

करो या मरो (Do or die )

हार मानने का अर्थ है जीवन हार जाना
‘करो या मरो’ की स्थिति में व्यक्ति कभी हार नहीं मानता क्योंकि वह जानता है कि हार मानने का अर्थ है जीवन का हार जाना अतः ऐसे में व्यक्ति की सकारात्मक सोच ही उसका मार्गदर्शन करती है क्योंकि व्यक्ति की सकारात्मक सोच ही है जो व्यक्ति का आत्मविश्वास बनाये रखती है और व्यक्ति का यही आत्मविश्वास उसे प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने के लिए विकल्पों के चुनाव में सहायता करता है ,इस प्रकार व्यक्ति की सकारात्मक सोच प्रतिकूल परिस्थितियों (adverse circumstances )में भी व्यक्ति के साहस (Courage) को टूटने नहीं देती अपितु उसमें और अधिक आत्मविश्वास का संचार( increase confidence ) कर देती है !

विपत्तियों से बचाव (Rescue from troubles )

व्यक्ति का यही आत्मविश्वास उसे प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने के लिए विकल्पों के चुनाव में सहायता करता है इस प्रकार परिस्थितियां चाहे कितनी भी प्रतिकूल क्यों ना हो व्यक्ति के शांत मस्तिष्क में विपत्तियों से बाहर आने के विकल्प सदैव विद्यमान रहते हैं व्यक्ति का सकारात्मक दृष्टिकोण ना केवल उसकी बल्कि उसके संपर्क में आने वाले सभी व्यक्तियों की सफलता को भी सुनिश्चित करता है क्योंकि वह अपनी सोच से अपने आसपास का वातावरण सकारात्मक बनाए रखता जिससे वातावरण में एक प्रकार की सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है जो उसके आसपास एक विशेष औरा बनाता है !

जादुई व्यक्तित्व (Charismatic personality )

सकारात्मक सोच वाला व्यक्ति एक जादुई व्यक्तित्व बन जाता है उसमें एक अजीब सा हीलिंग पावर आ जाता है उसके संपर्क में आने वाला प्रत्येक व्यक्ति नकारात्मक विचारों को त्याग देता है इस प्रकार वह डॉक्टर ना होते हुए भी (psychologist ) मनोवैज्ञानिक चिकित्सक बनकर अपने आसपास के सभी लोगों के जीवन में खुशियां भर देता है !
ऐसा कौन है जो इन खुशियों की फुहार में भीगना नहीं चाहता ?ऐसा कौन है जो विपत्तियों से अवसर निकाल कर सफलता का स्वाद चखना नहीं चाहता ?रोग मुक्त होकर अपने आसपास के वातावरण को खुशनुमा बनाना नहीं चाहता ?

सकारात्मक प्रगतिशील दृष्टिकोण में सम्बन्ध (Relationship between positive and progressive vision)

सकारात्मक -दृष्टिकोण अपना कर आप सफलता प्राप्त करते हैं और प्रगतिशील -दृष्टिकोण से आप भविष्य में आगे बढ़ते जाते हैं अतः एक सफलता को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है तो दूसरा सफलता को बनाए रखने और निरंतर सफलता (continuity of success )के मार्ग पर अग्रसर होने में सहायता करता है !

सफलता की पृष्ठभूमि (Background of success)

जीवन की समस्याओं के प्रति हमारा संघर्ष हमारी सकारात्मक सोच सशक्त रणनीति प्रगतिशील दृष्टिकोण व हमारे सामाजिक और सांस्कृतिक परिवेश से उत्पन्न हमारी वैचारिक क्षमता आदि मिलकर ही किसी व्यक्ति की सफलता की पृष्ठभूमि (Background)बनाते हैं व निरंतरता को निर्धारित करते हैं !

निर्णय में बाधक मूल्य (Hindered price of judgment)

व्यक्ति की वैचारिक क्षमता उसके मूल्यों (Values)से प्रभावित होती है अर्थात प्रत्येक व्यक्ति अपनी पसंद की वस्तुओं की ओर आकर्षित होता है व्यक्ति का यही आकर्षण उसे वैज्ञानिक आधार पर निर्णय लेने में बाधा डालता है जैसा कि मानव व्यवहार वादी विचारक हर्बर्ट साइमन ने स्पष्ट किया था कि तथ्यों में स्पष्टता होते हुए भी व्यक्ति मूल्यों से अर्थात अपनी पसंद से आकर्षित होकर मूल्य आधारित निर्णय ले लेता है यही अर्थात पसंद आधारित निर्णय उसके लक्ष्य की प्राप्ति में बाधक सिद्ध होते हैं निर्णयों को अधिकाधिक लाभकारी कैसे बनाया जाये इस सम्बन्ध में चर्चा अगले ब्लॉग में करेंगे !

सुखी सफल संपन्न जीवन (Happy and prosperous life)

संछिप्त में ,मैं केवल इतना ही कहना चाहूंगी कि ऐसा कौन है जिसके जीवन में समस्याएं नहीं आती ? मानसिक दबाव नहीं होते ?रोग नहीं घेरते ?सस्याएं तो प्रकृति का नियम है , जिनका सामना प्रत्येक व्यक्ति अपने तरीके से करता है , तो क्यों ना हम जीवन की समस्याओं का समाधान संघर्ष की दृढ़ इच्छा शक्ति ( strong will power of struggle ) ,सकारात्मक दृष्टिकोण (positive thoughts ),सशक्त रणनीति (effective strategy) और प्रगतिशील दृष्टिकोण (progressive thoughts ) के साथ कर जीवन को सुखी , सफल व संपन्न बनालें !

4 विचार ““क्या समस्या का समाधान इतना सरल है ?”&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.