personality development, Society

“क्या चरित्र का हनन कोई लक्ष्य चरितार्थ कर सकता है ?”

व्यक्ति का चरित्र व्यवहार से झलकता है

The character of the person characterized by behavior

व्यक्ति का चरित्र उसके प्रत्येक कार्य में झलक ता है ,परंतु इसकी परीक्षा केवल कुछ विषम रिस्थितियों में ही होती है यधपि चरित्र से तात्पर्य चाल -चलन से लगाया जाता है परन्तु ये एक वृहद विचारधारा है जिसमें सामाजिक ,आर्थिक , राजनीतिक ,धार्मिक व सांस्कृतिक सभी क्षेत्र सम्मिलित होते है !

चरित्र के बिना शीर्ष का क्या अर्थ ?

What does the mean of top without the character ?

व्यक्ति का चरित्र केवल उसका व्यक्तिगत चरित्र नहीं होता अपितु संपूर्णता में व्यक्त होता है अपने प्रयासों से शीर्ष स्थान को पा लेना ही सफलता नहीं है वास्तविक सफलता तो शीर्ष पर बने रहने में है अतः एक छदम (False) उपलब्धि के लिए चरित्र का हनन करना कहां की समझदारी है यही तो आपकी पहचान है चरित्र के बिना चरम का कोई अर्थ ही नहीं है !

सही गलत के अंतर के लिए बुद्धि है

There is wisdom for the difference right and wrong.

याद रखिए योग्यता आपको शीर्ष स्थान दिलाती है और नम्रता महान बनाती है अतः सही गलत का अंतर जानने के लिए हम बुद्धि का प्रयोग कर सकते हैं ,दयालु स्वभाव के साथ-साथ एक संतुष्ट मन विकसित करके स्वयं को इर्षा से बचाये रख सकते हैं और दूसरों के काम आ कर संतोष का अनुभव कर सकते हैं !

मनुषत्व ही पहचान है

Humanity is the identification .

याद रखिए आप बहुत कुछ हो सकते हैं नेता अभिनेता प्रशासक …….. आदि परंतु कुछ भी होने से पहले आप एक इंसान हैं और एक इंसान का काम ही दूसरे इंसान के काम आना है !

आपका विकास आपके दृष्टिकोण पर निर्भर करता है

Your development is depend on your point of view .

चरित्र के संबंध में जिग – जिगलर का विचार बहुत ही प्रशंसनीय है मुझे बहुत प्रभावित करता है और मुझे विश्वास है कि आप भी इससे प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकेंगे :-

“यह आपका दृष्टिकोण है , ना कि आपकी योग्यता ,जो आपकी ऊंचाई निर्धारित करती है ! “जिगजिगलर

अर्थ यह हुआ कि आप की सफलता असफलता आपके दृष्टिकोण पर निर्भर करती है यदि आपका दृष्टिकोण सही है तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता इसके लिए चरित्र से समझौता करने का प्रश्न ही कहाँ उठता है ?

सफलता महत्वपूर्ण है या संतुष्टि

Success is vital or satisfaction

दूसरे अर्थों में चरित्र आपके वैचारिक दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जहां आप सफलता से ज्यादा संतुष्टि को महत्व देते हैं अधिकतर लोग केवल इसीलिए आपका अनुसरण करते हैं क्योंकि आप सही हैं यहां चरित्र के संबंध में विलियम ब्लेक का उद्धरण सटीक बैठता है :-

“योग्यता आपको शीर्ष पर ले जा सकती है , लेकिन वहां बने रहने के लिए चरित्र की आवश्यकता होती है !”

विलियमब्लैक

वास्तविक चरित्र

Real character

चरित्र का परीक्षण तो विषम परिस्थितियों में ही होता है “जो मौसम की तरह नहीं बदलता वास्तव में वही चरित्रवान कहलाता है !”आपकी जीत तो विषम परिस्थितियों में भी आशावादी बने रहने में है ,विवादों और प्रतिकूल परिस्थितियों में भी अपने लक्ष्य पर डिगे रहने में है !

“यदि चरित्र का महत्व नहीं होता तो चरित्र प्रमाण पत्र भी आवश्यक नहीं होता !” इसलिए दृढ़ इच्छा शक्ति और सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ आगे बढ़ते रहिये ,हंसते -रहिए ,हंसाते -रहिए जीवन अनमोल है मुस्कुराते रहिए !

धन्यवाद

🙏🙏🙏

7 विचार ““क्या चरित्र का हनन कोई लक्ष्य चरितार्थ कर सकता है ?”&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.