shayree

” तो ये सिम्तों में बटा क्या है !”

वक्त सिलसिला है !कब रुका है ?कब थमा है ?

कब बदल जाये ? कोई जाने नहीं !

कभी मौसम !कभी सावन !!

दिल जो टूटे तो ये – खुद ही दवा है

वक़्त क्या है ?सिलसिला है !

हम हैं मेहफ़ूज़ बहुत , यूं हमें लगता है !

वक़्त कह देता है लेकिन ! सच क्या है ?

वो शहर भी , है शजर भी, वो हवा है, वही दर भी !

सब गुज़र जाता है ,तो ये माजरा क्या है ?

नम आखों मैं छुपा है !क्या राज़ कोई गहरा ?

ये गम जो नहीं !तो भला क्या है ?

कोई अपना या पराया ,कुछ नहीं होता !

है अगर सच , तो ये सिम्तों में ,बटा क्या है ?

Advertisements

24 विचार “” तो ये सिम्तों में बटा क्या है !”&rdquo पर;

      1. Every language has its beauty .But still
        If you are interested to write in Hindi with English keyboard, So you can download Hindi keyboard and write in Hindi . you would be able to express your thoughts in in hindi while Thoughts are more important than language .You think so, I think you have good command over English as well as Hindi.
        Best of luck 👍👍👍

        Liked by 2 लोग

  1. समय के पास इसे मास्टर करने के लिए कोई नहीं है। दिल क्या महसूस करता है, कोई नहीं बदल सकता। आप अपने छंदों को एक उत्कृष्ट कविता बनाते हैं। मुझे मजा आया

    पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.