pixabay
#kavita, सोशल ईविल, humble ,kind and polite, kavita, life, shayree, Society, Uncategorized

“तकब्बुर कैसा !”


दिल जो ख्वाबों का !

आशियाना है !

वो भी एक दौर था !

ये भी एक ज़माना है !

गम दे जो मुसलसल !!

ठहरे न ख़ुशी !!

किस तरहाँ ये !!

गम का आना जाना है !!

थे जो मशहूर कभी !!!

ख़ास वजाहों के लिए !!!

आम उनको भी !!!

एक रोज़ हो जाना है !!!

काहे का फ़क़्र iv

तकब्बुर कैसा iv

जो कमाया था iv

सब यहीं रह जाना है iv

pixabay
kavita, life, Mental health and personality development, motivation, personality development, safalta ke mool mantra, Society, solution of a problem, Uncategorized

“दृढ व्यक्ति की यही पहचान होती है !”

जीवन एक प्रतियोगिता है और आप एक प्रतियोगी इसलिए बिना रुके चलते रहिये !

टूट कर -बिखर जाने की -कहानी !

बहुत आसान – होती है !

…………..

समेट लेना -खुद को विपत्ति में !!

दृढ -व्यक्ति की -यही !!

पहचान -होती है !!

…………

वो हस्ती -हो जिसे !!!

दर्द ,औरों की -पीड़ा का !!!

ढूँढना – शक्सियत ऐसी !!!

कहाँ ,आसान होती है !!!