Pixabay.comPixabay.comPixabay.com
#kavita, सोशल ईविल, humble ,kind and polite, kavita, life, Mental health and personality development, motivation, safalta ke mool mantra, shayree, Society, solution of a problem, Uncategorized

“इनसे तो बेहतर मिटटी के थे मकां !”

क्या -क्या रफू करोगे ?

क्या-क्या रफू करोगे !

रह जाएगा निशान !

बारिश के बाद जैसे !

सूखा हुआ मकान !

मिले थे नसीब से तो !!

बिछड़ना भी नसीब था !!

आए यकीन क्यों ना !!

किस्मत का था लिखा !!

अपनी ही है ज़मीन और !!!

अपना ही आसमां !!!

लगता है फ़िर पराया !!!

सारा ही क्यों जहां !!!

शीशे के घरों में i v

पत्थर के लोग हैं i v

इनसे तो बेहतर i v

मिट्टी के थे मकान i v

life, motivation, shayree

“आज से बेहतर कल होगा !”

shayree
“आज से बेहतत कल होगा “

  • Aaj se behtar kal hoga !
  • Sundar har ek pal hoga !!
  • Tum jo agar umeed na haro !
  • Aage badho kal ko sawaro !!
  • kuch guzre kal se seekho !
  • Murjhaye har pal ko seencho !!
  • Aaj lagaya ped hai jo !
  • Kal wo hara hoga !!

Aa