देश, सोशल ईविल, deshbhakti, life, nationalism, Society

” खतरे में लोकतंत्र !”

democracy
क्या यही लोकतंत्र है ?
Advertisements